भारत और नेपाल के बीच चलेगी पहली भारत गौरव टूरिस्ट ट्रेन 8000 किलोमीटर के सफर में बिहार से भी गुजरेगी

प्रमुख तीर्थ स्थलों के दर्शन कराने वाली देश की पहली भारत गौरव टूरिस्ट ट्रेन बिहार से भी होकर गुजरेगी। इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म सर्विस (आईआरसीटीसी) द्वारा संचालित की जाने वाली ट्रेन थर्ड एसी होगी जो देश के प्रमुख तीर्थ स्थलों के दर्शन कराते हुए नेपाल तक जाएगी। इस ट्रेन को श्री रामायण यात्रा के नाम से शुरू किया गया है। यह ट्रेन भगवान राम से जुड़े प्रमुख तीर्थ स्थलों के दर्शन कराएगी।

रेलवे मंत्रालय ने ट्रेनों को किराए पर देने के लिए नई योजना भारत गौरव शुरू की है। इसके तहत चलाई जाने वाली पहली ट्रेन भारत और नेपाल दोनों देशों को आपस में जोड़ेगी। यह ट्रेन नेपाल के जनकपुर तक जाएगी, जहां पर रामजानकी मंदिर है।

18 दिन की यात्रा में 8000 किलोमीटर का होगा सफर।

रेलवे मंत्रालय के अधिकारियों के अनुसार ट्रेन पूरी यात्रा में 8000 किमी का सफर तय करेगी। यह ट्रेन देश के 8 राज्‍यों का सफर करेगी, जिसमें उत्‍तर प्रदेश, बिहार, मध्‍य प्रदेश, महाराष्‍ट्र, कर्नाटक, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश शामिल हैं। ट्रेन 21 जून को सफदरजंग रेलवे स्‍टेशन दिल्‍ली से रवाना होगी। पूरी यात्रा 18 दिन की होगी. पूरी ट्रेन थर्ड एसी होगी। करीब 600 यात्री एक साथ सफर कर सकेंगे। ट्रेन में पैंट्री कार होगी, ट्रेन सीसीटीवी कैमरे से लैस होगी। सुरक्षा के लिए गार्ड भी मौजूद रहेंगे।

इन शहरों से होकर गुजरेगी ट्रेन।

ट्रेन 12 प्रमुख शहरों से होकर गुजरेगी, जो भगवान श्रीराम से संबंधित हैं, यहां पर यात्री इन धार्मिक स्‍थानों के दर्शन कर सकेंगे। इनमें अयोध्‍या, बक्‍सर, जनकपुर, सीतामढ़ी, काशी, प्रयाग, चित्रकूट, नासिक, हम्‍पी, रामेश्‍वरम, कांचीपुरम और भद्रांचल शामिल हैं।

इन शहरों में भगवान राम से जुड़े तीर्थ स्थल।

अयोध्‍या- राम जन्‍मभूमि मंदिर, हनुमान गढ़ी, सरयू घाट, नंदीग्राम, भरत हनुमान मंदिर और भरत कुंड

जनकपुर (नेपाल)- रामजानकी मंदिर

सीतामढ़ी- जानकी मंदिर और पुराना धाम

बक्‍सर- राम रेखा घाट, रामेश्‍वरनाथ मंदिर

वाराणसी- तुलसी मानस मंदिर, संकट मोचन मंदिर, विश्‍वनाथ मंदिर और गंगा आरती

प्रयागराज- सीता समाहित स्‍थल, सीतामढ़ी, भारद्वाज आश्रम, गंगा-यमुना संगम और हनुमान मंदिर

प्रयागराज- सीता समाहित स्‍थल, सीतामढ़ी, भारद्वाज आश्रम, गंगा-यमुना संगम और हनुमान मंदिर

श्रृंगवेरपुर- श्रिंगी ऋषि आश्रम, शांता देवी मंदिर, रामचौरा

चित्रकूट-गुप्‍त गोदावरी, रामघाट, सती अनुसुइया मंदिर

नाशिक-त्रंंबकेश्‍वर श्‍वर मंदिर , पंचवटी, सीता गुफा, कालाराम मंदिर

Input Bihar news Now

Leave a Reply

Your email address will not be published.