नीतीश कुमार ने NDA छोड़ने की अटकलों पर लगाया विराम तेज प्रताप ने कहा था चाचा से हो गई बात बिहार में खेला होगा

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार शुक्रवार को इफ्तार पार्टी के लिए पूर्व सीएम राबड़ी देवी के घर पर पहुंचे थे। इसके बाद पटना के सियासी हलकों में तरह-तरह की चर्चाएं होने लगी। उनके भाजपा से गठबंधन तोड़कर फिर से महागठबंधन में शामिल होने के साथ-साथ बीजेपी पर दबाव बनाने जैसी चर्चाएं होने लगी। हालांकि, नीतीश कुमार ने तमात अटकलों पर खुद विराम लगा दिया। आपको बता दें कि मुख्यमंत्री पांच साल के बाद लालू यादव के घर पहुंचे थे।

न्यूज एजेंसी एएनआई से बात करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा, “ऐसी इफ्तार पार्टियों में बहुत से लोगों को आमंत्रित किया जाता है। इसका राजनीति से क्या संबंध है? हम भी एक इफ्तार पार्टी रखते हैं और सभी को इसमें आमंत्रित करते हैं।”

आपको बता दें कि कल नीतीश कुमार अपने सरकारी आवास से राबड़ी देवी के घर पैदल ही पहुंच गए थे। यहां उन्होंने राबड़ी देवी, उनके बेटों तेजस्वी और तेज प्रताप यादव के साथ जश्न में शिरकत किया। वह यहां लगभग 20 मिनट तक रहे। इससे कुछ ही देर पहले झारखंड हाईकोर्ट ने भ्रष्टाचार के एक मामले में लालू यादव को जमानत दे दिया था।

लालू यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव से जब इस आयोजन के राजनीतिक संबंधों पर चर्चा की गई तो उनका कुछ और ही कहना था। उन्होंने कहा, “यह राजनीति है। अटकलें लगना सामन्य बात है। आज वह सत्ता में है, कल बदलाव हो सकता है। पहले मैंने ‘नो एंट्री’ बोर्ड लगाया था। लेकिन अब इसे ‘एंट्री – नीतीश चाचा जी’ से बदल दिया गया है। अब वह आ गए हैं।” तेजप्रताप यादव ने बिहार में सरकार बनाने का भी दावा किया। उन्होंने कहा, “हम सरकार बनाएंगे और खेल खुल जाएगा। यह एक रहस्य है। नीतीश जी के साथ गुप्त बातचीत हुई।

हालांकि, लालू यादव के परिवार ने जोर देकर कहा कि आमंत्रित लोगों में भाजपा के शहनावान हुसैन और लोजपा के चिराग पासवान भी शामिल हैं। राज्य विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी ने शुक्रवार को कहा, “हमने सभी लोगों को निमंत्रण दिया है, चाहे वह भाजपा, जदयू या लोजपा से हो और यह एक परंपरा रही है कि हर कोई इफ्तार पार्टी में भाग लेता है। राबड़ी देवी के घर इफ़्तार दावत में शिरकत करने के बाद बिहार सरकार में मंत्री शाहनवाज़ हुसैन ने कहा, ”मैंने और सुशील मोदी जी ने इफ़्तार दिया था,वहां भी नीतीश कुमार आए थे। यहां तेजस्वी यादव ने इफ़्तार दिया है। हमें भी बुलाया गया था, हम आ गए। इसमें कोई राजनीतिक मामला निकालने की जरूरत नहीं है।

क्या राजनीति के नीतीश कुमार, चिराग पासवान और तेजस्वी यादव के एक साथ आने का समीकरण बन सकता है? इस सवाल का जवाब देते हुए चिराग पासवान ने कहा, नहीं ऐसी कोई संभावना नहीं है… इफ़्तार की दावत को राजनीतिक परिप्रेक्ष्य में देखना बिल्कुल भी उचित नहीं है।

इनपुट : लाइव हिंदुस्तान

Leave a Reply

Your email address will not be published.