डेढ़ लाख के बेड हो रहे खराब गुटखा खा कर थूक रहे लोग ||


सदर अस्पताल के बरामदे में रखे 30 नये बेड खराब हो रहे हैं. इसकी चिंता अस्पताल प्रशासन को नहीं है. यहां रखे बेड पर लोग गुटखा और पान खाकर थूक रहे हैं. ऐसा नहीं है कि अस्पताल प्रबंधन की इसकी नजर नहीं है, लेकिन लापरवाही के कारण इसके रखरखाव का इंतजाम नहीं किया जा रहा है. बाजार के अनुसार एक बेड की कीमत करीब पांच हजार हैं. इस लिहाज से यहां रखे बेड की कीमत करीब डेढ लाख बतायी जा रही है|


बीएमआईसीएल ने दो महीने पहले सदर अस्पताल को 400 बेड की आपूर्ति की थी. इसमें से 350 बेड विभिन्न पीएचसी को भेज दिया गया, लेकिन सदर अस्पताल का बेड किसी सुरक्षित जगह पर रखने के बजाय बरामदे में रख दिया गया. कभी तेज धूप और कभी बारिश के पानी के कारण दो माह से रखे बेड का रंग भी अब खराब होने लगा है।


“बीएमआईसीएल ने 400 बेड भेजा था, जिनमें से 50 बेड सदर अस्पताल के लिए था. इसमें से 20 बेड वार्ड में रखवा दिया गया है. बरामदे में रखे बेड को भी जल्द ही वार्ड में शिफ्ट किया जायेगा।” – डॉ विनय कुमार शर्मा, सिविल सर्जन|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *