दरभंगा के कोठिया में टूटा बांध, 50 हजार की आबादी प्रभावित, बस स्टैंड व हवाई अड्डे पर खतरा

उत्तर बिहार से गुजरने वाली नदियों के जलस्तर में उतार-चढ़ाव की स्थिति बनी हुई है। इससे पूर्वी चंपारण और मिथिलांचल के कई प्रखंडों में बाढ़ की स्थिति बनी हुई है। शुक्रवार को दरभंगा जिले के केवटी प्रखंड में अधवारा नदी का पूर्वी बांध कोठिया लोहार टोली के पास करीब 25 फीट टूट गया। बांध टूटने से चार पंचायतों की करीब 50 हजार की आबादी प्रभावित हो गयी है। बांध टूटने से दरभंगा शहर में भी पानी प्रवेश करने की आशंका है। अगर इसकी मरम्मत जल्द नहीं की गयी तो दिल्ली मोड़ स्थित बस स्टैंड समेत दरभंगा हवाई अड्डे पर भी खतरा बढ़ सकता है।

उधर, बागमती और बूढी गंडक में उफान जारी है। बागमती के कारण मुजफ्फरपुर के औराई-कटरा के गांवों की स्थिति बिगड़ती जा रही है। कटरा प्रखंड दफ्तर से लेकर पांच से अधिक पंचायतों का मुख्यालय से संपर्क लगभग खत्म हो गया है। बांध से सटे गांवों में तेजी से पानी फैलने से कटरा का दरभंगा के कई इलाकों से संपर्क टूट गया है। बूढ़ी गंडक के कारण शहर के कई मोहल्लों में बाढ़ की स्थिति गंभीर हो गई है।

अररिया में सड़क दो जगहों पर टूटी
कोसी, सीमांचल के जिलों में नदियों का पानी उतर रहा है, पर लोगों की परेशानी बरकरार है। अररिया में बकरा नदी के पानी के दबाव से पलासी में धर्मगंज-भट्टाबाड़ी सड़क दो जगहों टूट गई। इससे आधा दर्जन गांव प्रभावित हैं।

बागमती के कारण गांव और बूढ़ी गंडक से शहर में तबाही
बारिश थमने के बावजूद नदियों के तेवर में कमी नहीं दिख रही है। खासकर बागमती और बूढी गंडक में उफान जारी है। बागमती में उफान के कारण मुजफ्फरपुर के औराई और कटरा के गांवों की स्थिति लगातार बिगड़ती जा रही है।

कटरा प्रखंड कार्यालय से लेकर पांच से अधिक पंचायतों का मुख्यालय से संपर्क लगभग खत्म हो गया है। बांध के किनारे के गांवों में तेजी से पानी फैलने के कारण कटरा का दरभंगा के कई इलाकों से संपर्क टूट गया है। बूढी गंडक में पानी बढ़ने के कारण शहर के कई मोहल्लों में बाढ़ की स्थिति गंभीर हो गई है।

सुगौली में तीसरी बार बाढ़ ने दी दस्तक
पूर्वी चंपारण जिले के बारह प्रखंडों में बाढ़ का कहर जारी है। बाढ़ से करीब छह लाख की आबादी प्रभावित है। हालांकि कई प्रखंडों में बाढ़ का पानी कम हो रहा था। इस बीच सुगौली ब्लॉक के ग्रामीण क्षेत्र में फिर तीसरी बार बाढ़ ने दस्तक दे दी है। ब्लॉक के बिशुनपुरवा सड़क पर बाढ़ का पानी चढ़ गया है। बंजरिया में बाढ़ का पानी कम होने के बाद कटाव का खतरा बढ़ गया है। मोतिहारी, तेतरिया, चकिया, तुरकौलिया आदि ब्लॉक में बाढ़ की स्थिति यथावत है। गंडक नदी के जलस्तर में वृद्धि जारी है। बूढ़ी गंडक नदी के जलस्तर में गिरावट दर्ज की गई है। डुमरिया घाट व गंडक चटिया में जलस्तर में वृद्धि दर्ज की गई है। जबकि लाल बेगिया सिकरहना व लाल बकेया गुवाबारी में बूढ़ी गंडक नदी के जलस्तर में गिरावट आई है। अहिरौलिया में बूढ़ी गंडक नदी का जलस्तर स्थिर बना है। गंडक बराज वाल्मीकि नगर ने शुक्रवार को 2,51,200 क्यूसेक पानी छोड़ा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *