आज रात के बाद से बालू खनन पर लगी रोक हट जाएगी।

1 अक्टूबर की सुबह बिहार के लिए अच्छी खबर के साथ आएगी।

बिहार में तीन महीने से बेरोजगार बैठे लाखों मजदूरों के लिए अच्छी खबर है। सोमवार यानी पहली अक्टबूर से आधिकारिक तौर पर सभी बालू घाटों पर बालू खनन शुरू हो जाएगा। साथ ही, कई स्थानों पर धर्मकांटा के माध्यम से बालू भेजा जाना भी शुरू हो जाएगा। इसी के साथ महंगी दर पर बिकने वाले बालू का संकट भी काफी हद तक दूर हो जाएगा।

राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण द्वारा गत पहली जुलाई से तीन महीने के लिए नदियों से खनन पर प्रतिबंध लगा दिया था। यह अवधि रविवार को समाप्त हो गई। खनन शुरू होने से निर्माण कार्यों को भी गति मिलेगी। बालू की कीमतें कम होने से सामान्य खरीदारों को भी राहत मिलेगी। जानकार सूत्रों के मुताबिक सोमवार से राज्य के 502 से अधिक घाटों पर एक साथ खनन शुरू हो जाएगा। खान एवन भूतत्व विभाग ने भी उम्मीद जतायी है कि खनन शुरू होने से बालू की कीमतें पूर्व की भांति तीन हजार रुपए प्रति सौ घनफुट पर आ जाएंगी। कारण बालू की उपलब्धता बढ़ने से पूर्व से भंडारित बालू की कीमतें भी गिर जाएंगी। बालू का कारोबार करने के लिए 1072 लोगों को लाइसेंस दिए गए हैं। इनमें पटना जिले में 83, गया में 92 और औरंगाबाद में 72 लोगों को अनुज्ञप्ति मिली है।

अब पेट्रोल डीजल खरीदने पर वाहन धुलाई फ्री।

राज्य सरकार के निर्देश पर बालू घाटों पर धर्मकांटा लगाने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। अब तक हर बालूधारित जिले के प्रमुख घाटों पर धर्मकांटा लगाए गए हैं। यहां से अन्य घाटों को टैग किया जा रहा है। धर्मकांटा पर सिर्फ ट्रकों के माध्यम से बालू की खरीद-बिक्री होगी। धर्मकांटा लगे सभी घाटों पर जल्द ही वेब कैमरे लगाए जाएंगे। इससे वहां आने वाले ट्रकों के नंबर के आधार पर ई- चालान जेनरेट होगा। सीसीटीवी कैमरों से मुख्यालय स्तर से होने वाले सारे कारोबार पर नजर रखी जाएगी। सहायक निदेशक संजय कुमार के मुताबिक ट्रकों से बालू भेजने वाले सभी बालू घाटों को धर्मकांटा से जोड़कर इंटीग्रेड कर दिया जाएगा, ताकि ओवरलोडिंग की समस्या से निजात पायी जा सकेगी।

वाया – हिंदुस्तान

Leave a Reply

Your email address will not be published.