मांगलिक कार्यों के लिए इस बार करना होगा इंतजार, खरमास बाद भी नहीं शुरू होंगे शुभ कार्य

• 19 अप्रैल के बाद शुरू होंगे शुभ कार्य

संवाददाता । पुनीत झा

मुजफ्फरपुर। सामान्यतया विवाह हो या अन्य कोई मंगल कार्य, बिना शुभ मुहूर्त देखे हम कोई कार्य नहीं करते। मगर इस साल विवाह के मुहूर्त के लिए लंबा इंतजार करना होगा। ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक, विवाह एवं मांगलिक कार्यों के लिए गुरू और शुक्र तारा का उदय एवं शुभ मुहूर्त का होना बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है।

पंडितों की मानें तो 14 जनवरी तक खरमास होने की वजह से मांगलिक कार्य नहीं हो पाएंगे। 16 जनवरी से 12 फरवरी 2021 तक गुरु अस्त होने से समय अशुद्ध रहेगा। वहीं 17 फरवरी से 19 अप्रैल 2021 तक शुक्र तारा अस्त होने की वजह से मांगलिक कार्यों के लिए समय अशुद्ध रहने वाला है। इसके अलावा 14 मार्च से 13 अप्रैल तक खरमास रहेगा और 21 मार्च से 28 मार्च तक होलाष्टक के कारण मांगलिक कार्य नहीं हो पाएंगे।

ज्योतिषविद् पंडित प्रभात मिश्र बताते हैं कि शादी-विवाह जैसे मांगलिक कार्यों के लिए ग्रह-नक्षत्रों की स्थितियों पर विचार किया जाता है। शुक्र और गुरु की स्थिति को देखकर विवाह मुहूर्त निश्चित किए जाते हैं। अगर ये दोनों ग्रह अस्त होते हैं तो उस स्थिति में मांगलिक कार्यों के लिए मुहूर्त नहीं निकल पाता है। दोनों के उदय होने पर ही विवाह जैसे मांगलिक कार्य संपन्न होते हैं। इस साल गुरु और तारा के अस्त होने की अवधि थोड़ी लंबी है, इसलिए कम विवाह मुहूर्त हैं। पौष शुक्ल पक्ष की तृतीया यानी 16 जनवरी से गुरु तारा अस्त हो रहा है जो माघ शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि यानी 12 फरवरी को उदित होगा। गुरु अस्त की यह अवधि विवाह योग में बाधा डाल रही है। श्री मिश्र बताते हैं कि जिस प्रकार गुरु का उदय मांगलिक कार्यो के लिए महत्वपूर्ण है, उसी तरह शुक्र का उदय भी सभी प्रकार के मांगलिक कार्यों के महत्वपूर्ण माना जाता है। हिन्दू पंचांग के अनुसाल नए साल में शुक्र माघ शुक्ल षष्ठी 17 फरवरी से अस्त हो रहा है, जो चैत्र शुक्ल पक्ष की सप्तमी यानी 19 अप्रैल को उदित होगा।

वसंत पंचमी पर भी नहीं हो पाएगी शादी

ज्योतिषविद् बताते हैं कि इस साल वसंत पंचमी 16 फरवरी को है। शास्त्रों में इसे विवाह जैसे मांगलिक कार्य के लिए अबूझ मुहूर्त माना जाता है, लेकिन इस दिन नक्षत्र अनुकूल नहीं है। वहीं पंचागों के अनुसार 17 फरवरी को सूर्योदय काल में शुक्र अस्त हो जाएगा।

इस साल ये हैं विवाह मुहूर्त

अप्रैल – 22, 24, 25, 26, 27, 28, 29, और 30
मई – 1, 2, 7, 8, 9, 13, 14, 21, 22, 23, 24, 25, 26, 28, 29 और 30
जून – 3, 4, 5, 16, 20, 22, 23, और 24
जुलाई – 1, 2,3,6,12, , 13 ,14,15,और 16
नवंबर – 15, 16,19, 20, 21,22,26, 28, 29 और 30
दिसंबर – 1, 2, 4,6, 7, 11,12 और 13

विश्वविद्यालय पंचांग के अनुसार फरवरी में दो विवाह के दिन दिए गए हैं – 17 और 21

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *