डकैती, मारपीट और उसके बाद 16 साल की बेटी को उठाकर ले गए, पुलिस के बिगड़े बोल पर भड़के लोग।

दिघरा में बीती रात अपराधियों ने डकैती की बड़ी वारदात को अंजाम दिया। डकैतों ने महिला के साथ मारपीट की। 16 साल की लड़की का मुंह व हाथ बांधा और उसे उठाकर ले गए। डकैती और लड़की को अगवा किए जाने से परिवार में कोहराम मचा है। वहीं, पुलिस के बिगड़े बोल से लोगों का गुस्सा उफन रहा है। शुक्रवार सुबह पुलिस मौके पर पहुंची और कहा कि मामला प्रेम-प्रसंग का लग रहा है। इतना सुनते ही गांव के लोग भड़क गए और पुलिसवालों को खदेड़ने लगे। लोगों का गुस्सा देख पुलिस के जवान जान बचाकर भागे।

छत के रास्ते घर में घुसे थे डकैत
घटना गुरुवार और शुक्रवार के दरम्यानी रात की है। एनएच 28 के किनारे शंभू पांडेय का घर है। पीड़ित परिवार के अनुसार, रात के करीब 12:30 बजे डकैत छत के रास्ते घर में घुसे। अपराधियों ने घर की महिलाओं के साथ मारपीट की। अपराधी तीन लाख के गहने, 50 हजार रुपए कैश और घर में रखे सारे कीमती सामान समेटकर ले गए। वारदात के समय शंभू घर के बाहरी हिस्से में बने रूम में सो रहे थे। घर में उनकी पत्नी, दो बेटी और एक बेटा सो रहे थे।

बहन के बारे में बताती बड़ी बहन शंभू पांडेय

मेरी बहन को उठाकर ले गए अपराधी
शंभू पांडेय की बड़ी बेटी ने कहा कि मैं सो रही थी। मेरे रूम में दो आदमी आए। वे लोग सारा-सामान इधर-उधर कर रहे थे तब मेरी नींद खुली। मैंने कहा कि क्या कर रहे हैं आप लोग? इसके बाद मैंने पापा और चाची को फोन करने के लिए मोबाइल उठाया। उन लोगों ने मेरा मोबाइल छीन लिया। दो आदमी मेरे रूम में थे और चार-पांच आदमी और थे। सभी चाकू, पिस्टल और बंदूक लिए हुए थे। सभी ने अपना चेहरा ढंक रखा था। अपराधियों ने मुझे डराया और बाहर बैठा दिया। इसके बाद वे लोग मेरी बहन के रूम में गए। अपराधियों ने मेरी बहन का मुंह और हाथ बांध दिया और उसे उठाकर ले गए।

15 मिनट का रास्ता तय करने में पुलिस को लगे ढाई घंटे
डकैती के बाद पीड़ित परिवार ने पुलिस को फोन किया। घटनास्थल से सदर थाना की दूरी करीब 10 किलोमीटर है। 10-15 मिनट की दूरी तय करने में पुलिस को ढाई घंटे लग गए। डकैतों के चले जाने के काफी देर बाद पुलिस के जवान पहुंचे और पीड़ित परिवार से कहा कि सुबह आवेदन दे दीजिएगा। शुक्रवार सुबह पुलिस के जवान फिर पीड़ित के घर पहुंचे। बातचीत के दौरान एक पुलिसवाले ने कह दिया कि मामला प्रेम-प्रसंग का लग रहा है। यह सुनते ही गांव के लोग भड़क गए। पहले नोकझोंक हुई। इसके बाद हाथापाई की नौबत आ गई। लोगों का गुस्सा देख पुलिसवाले भागने लगे तो गांव के लोगों ने काफी दूर तक उन्हें खदेड़ा।

डकैती और पुलिस की कार्यशैली से आक्रोशित लोगों ने सड़क जाम कर दिया

डकैती और पुलिस की कार्यशैली से आक्रोशित लोगों ने सड़क जाम कर दिया।
आक्रोशित लोगों ने एनएच 28 किया जाम
डकैती और पुलिस की कार्यशैली से नाराज ग्रामीणों ने शुक्रवार सुबह एनएच 28 जाम कर दिया। घटना की सूचना मिलने पर स्थानीय विधायक बेबी कुमारी मौके पर पहुंची। विधायक भी लोगों के साथ धरने पर बैठ गईं। विधायक के आने के बाद पुलिसकर्मी फिर मौके पर पहुंचे।

कंटेंट: गुलशाद जी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *