कल पधारेंगी मां, पूरे दिन कलश स्थापना का मुहूर्त शारदीय नवरात्र -भोर में 3:25 बजे से सूर्यास्त तक श्रद्धालु कर सकेंगे घटस्थापना …

शारदीय नवरात्र सोमवार 26 सितंबर से शुरू हो रहा है। सुबह 3.25 बजे से सूर्यास्त तक कलश स्थापन का शुभ मुहूर्त है। इस बार हाथी पर सवार होकर मां का आगमन और गमन होगा। इसे शुभ माना जा रहा है।

नौ दिनों तक मां दुर्गा के अलग-अलग रूपों की आराधना की जाएगी। श्रद्धालु उपवास रख माता की भक्ति में लीन हो जाएंगे। घरों, मंदिरों व पूजा-पंडालों में दुर्गा सप्तशती पाठ, चालीसा व बीजमंत्र गूंजने लगेंगे। दुर्गा मंदिरों में माता के दर्शन के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ेगी। उधर, पूजा तैयारी को लेकर बाजार में रौनक बढ़ गई है।

पंडित प्रभात मिश्र ने बताया कि पहले दिन घटस्थापना के साथ मां शैलपुत्री की पूजा की जाएगी। इसबार कोई तिथि लुप्त नहीं है। इसलिए पूरे नौ दिनों तक देवी के विभिन्न रूपों की पूजा होगी। वहीं, विजया दशमी पांच अक्टूबर को मनाया जाएगा। बताया कि सिद्धि और साधना की दृष्टि से देखा जाए तो शारदीय नवरात्र का खास महत्व है। इसमें जातक आध्यात्मिक और मानसिक शक्ति के संचय के लिए श्रद्धालु व्रत, संयम, नियम, यज्ञ, भजन, पूजन, योग-साधना आदि करते हैं। काफी संख्या में श्रद्धालु पूरे नवरात्र उपवास में रहते हैं और केवल फलाहार करते हैं। आठवें या नौवें दिन कन्या पूजन की जाती है। इसके बाद उपवास खोला जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.