स्टाइलिश दिखने वाले आकाश के जुनून ने बनाया उसे टीम इंडिया का कप्तान



टार्गेट बॉल प्रतियोगिता का नाम बहुत कम लोगों ने सुना होगा। यह बास्केटबाल से मिलता-जुलता खेल है और ग्रास कोर्ट पर खेला जाता है। 12 खिलाड़ियों की एक टीम के छह खिलाड़ी खेल में हिस्सा लेते हैं। आठ खिलाड़ी अतिरिक्त रहते हैं। 20-20 मिनट के दो हाफ के साथ खेले जाने वाले इस खेल में बाल एक टारगेट रिंग से पास करानी होती है।


सबसे महत्वपूर्ण है कि बास्केटबाल में दो रिंग होते हैं, जबकि टार्गेट बॉल में चार रिंग होते हैं। टार्गेट बॉल फाउन्डर ट्रॉफी 2022, 04 अगस्त से 09 अगस्त के बीच बांग्लादेश के ढाका में होने जा रहा है। प्रतियोगिता के पुरुष वर्ग के लिए मुजफ्फरपुर के आकाश का चयन हुआ है।

(आकाश अपने परिवार के साथ)


14 लोगों की टीम मे आकाश समेत बिहार से 3, कर्नाटक से 2, तेलांगना से 5, ऑडिशा से 2, झारखंड और आंध्र प्रदेश से 1-1 खिलाड़ी का चयन हुआ है। आकाश भारतीय टीम के कप्तान बनाए गए हैं।


पेशे से वकील आकाश ने अपनी पढ़ाई सेंट जेवीयर्स (गौशाला) से की और वकालत की पढ़ाई एस के जे लॉ कॉलेज से पूरी की। आकाश मुजफ्फरपुर के कोर्ट मे अपनी वकालत की प्रैक्टिस भी कर रहे हैं। आकाश की इस उपलब्धि से माँ अनीता झा और पिता वीरेंद्र मोहन झा काफी प्रसन्न है। वहीं बड़े भाई मॉडेल व ऐक्टर विशाल मोहन ने बताया कि आज दिन खुशी का आया है। खेल कोई भी हो भारत का प्रतिनिधित्व करना बड़ी बात है।


जस्ट मुजफ्फरपुर परिवार भी आकाश के उज्ज्वल भविष्य की कामना करता हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.