लोकसभा-राज्यसभा में भाजपा और कांग्रेस सांसदों में नोकझोंक , कई बार स्थगन के बाद दोनों सदन पूरे दिन के लिए स्थगित किए

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को लेकर कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी की टिप्पणी पर गुरुवार को संसद के अंदर और बाहर भारी हंगामा हुआ। लोकसभा में भाजपा सांसदों ने अधीर रंजन के साथ कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी पर भी निशाना साधा और माफी मांगने की मांग की। राज्यसभा में भी यही नजारा देखने को मिला। हंगामे के चलते सदन की कार्यवाही प्रभावित हुई और दो बार के स्थगन के बाद दिनभर के लिए स्थगित कर दी गई।

लोकसभा में सुबह कार्यवाही शुरू होते ही केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी और भाजपा की कई अन्य महिला सांसदों ने इस विषय को जोरदार तरीके से उठाया और कांग्रेस एवं उसकी नेता सोनिया गांधी पर तीखा प्रहार किया। स्मृति ईरानी ने कहा कि अधीर रंजन चौधरी ने देश की पहली महिला आदिवासी राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू के लिए अशोभनीय शब्द कह कर उनका अपमान किया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अधीर रंजन चौधरी ने कल सदन में राष्ट्रपति को ‘राष्ट्रपत्नी’ कहकर उनका अपमान किया। भाजपा नेताओं के हंगामे के बीच लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने सदन की कार्यवाही शुरू होने के करीब पांच मिनट बाद ही दोपहर 12 बजे तक स्थगित कर दी। दोबारा बैठक शुरू होने पर भाजपा सदस्यों का शोर-शराबा जारी रहा। हंगामा जारी रहने पर पीठासीन सभापति राजेन्द्र अग्रवाल ने सदन की कार्यवाही चार बजे तक स्थगित कर दी। कार्यवाही चार बजे आरंभ हुई तो भाजपा सदस्यों ने हंगामा शुरू कर दिया। इस पीठासीन सभापति किरीटभाई सोलंकी ने कार्यवाही शुक्रवार तक के लिए स्थगित कर दी।

स्मृति ईरानी भी सोनिया के रुख पर बिफरीं भाजपा की कई महिला सांसदों ने सोनिया से कुछ पूछा स्मृति ईरानी भी सोनिया के रुख पर बिफरी दिखीं। स्थिति बिगड़ती देख एनसीपी नेता सुप्रिया सुले और तृणमूल सांसद महुआ मोइत्रा आदि सोनिया को वहां से ले गईं, लेकिन दोनों पक्षों के सांसदों में नोकझोंक जारी रही।

पीयूष-निर्मला ने साधा निशाना : बाद में बाहर आकर केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा, सोनिया गांधी कह रही हैं कि अधीर रंजन ने माफी मांग ली है, लेकिन अधीर रंजन कह रहे हैं कि उन्होंने माफी नहीं मांगी। ऐसे में सोनिया गांधी की गलतबयानी सामने आ गई है। सोनिया गांधी देश से माफी मांगनी चाहिए।

जिस तरह से अधीर रंजन चौधरी ने राष्ट्रपति का अपमान किया, यह उनकी मानसिकता को दर्शाता है। यह देश हमारे आदिवासियों के साथ इस अपमान को कभी बर्दाश्त नहीं करेगा। क्या यह एक छोटी सी घटना है। -पीयूष गोयल, केंद्रीय मंत्री

उस समय मैं लोकसभा में थी जब 75 वर्षीय वरिष्ठ नेता को इस तरह घेर लिया गया जिस तरह झुंड में घेरा जाता है। उनके सामने टोकाटोकी की गयी। भाजपा के झूठे बयान पढ़कर व्यथित हूं।-महुआ मोइत्रा, तृणमूल कांग्रेस

लोकसभा में उप नेता राजनाथ सिंह ने गृहमंत्री अमित शाह, भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा, राज्यसभा में नेता पीयूष गोयल, संसदीय कार्य मंत्री के साथ मंत्रणा की। इसमें राष्ट्रपति के बारे में अधीर रंजन की टिप्पणी पर चिंता जाहिर की गई।

विपक्ष
सोनिया गांधी जानना चाहती थीं कि आखिर हंगामा क्यों हो रहा। भाजपा सांसद रमा देवी के पास जाकर वे कह रही थीं कि जब अधीर ने माफी मांग ली तो हंगामा क्यों। इस पर स्मृति ईरानी उनपर चिल्लाने लगीं। -गीता कोड़ा,कांग्रेस सांसद

सोनिया गांधी जब हमारी सांसद के पास आकर बात कर रही थीं, तब एक हमारी महिला सांसद उनके पास गईं और पूछने लगीं कि क्या हो गया, क्या बात हो रही है। तब सोनिया गांधी ने धमकी भरी आवाज से बात की। -निर्मला सीतारमण,वित्त मंत्री

भाजपा के वरिष्ठ नेताओं ने की मंत्रणा
देश से माफी मांगें: योगी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि राष्ट्रपति के प्रति कांग्रेस के सांसद की अभद्र टिप्पणी अत्यंत निंदनीय है। यह टिप्पणी भारत के संविधान का अपमान है। इस कृत्य के लिए उन्हें देशवासियों से माफी मांगनी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.